IoT क्या है ? इंटरनेट ऑफ थिंग्स की जानकारी

InterIoT या इंटरनेट ऑफ थिंग्स (Internet of Things) टेक्नोलॉजी दुनियाभर में बहुत लोकप्रियता हासिल कर रही है । टेक्नोलॉजी बहुत तेजी से आगे बढ़ रही है और इंटरनेट इस समय हर किसी के पास उपलब्ध है । आजकल ज्यादातर लोगों के पास स्मार्टफोन है, जिसमें इंटरनेट जरूर होता है । अब इंटरनेट के अलावा नई चीज इंटरनेट ऑफ थिंग्स के बारे में भी जगह जगह सुनने को मिल रहा है । इस समय Internet of Things टेक्नोलॉजी हमारी जिंदगी को हर तरफ से प्रभावित कर रही है । यह एक ऐसी तकनीक है जिससे हमारे बहुत से कार्य आसान और स्वचालित हो सकते है । आइए जानते है की इंटरनेट ऑफ टेक्नोलॉजी क्या है ? आगे हम IoT का मतलब, फायदे, नुकसान आदि के बारे में जानेंगे ।

इंटरनेट ऑफ थिंग्स क्या है ? | Internet of Things in Hindi

Internet of things in hindi

IoT या इंटरनेट ऑफ थिंग्स एक दूसरे से जुड़े डिवाइस का एक बड़ा नेटवर्क या एक सिस्टम होता है । डिवाइस इंटरनेट के द्वारा IoT Platform से जुड़ते है । इंटरनेट ऑफ थिंग्स में जुड़े डिवाइस डेटा इकट्ठा करते है, साथ ही एक दूसरे से शेयर करते है और इसका उपभोग करते है । इस तरह एक दूसरे के साथ मिलकर ये डिवाइस अपने फीचर्स से कई उपयोगी कार्य कर पाते है और इससे बहुत सी चीजे बिना मानव हस्तक्षेप के अपने आप होती जाती है । यह सब उन डिवाइस में लगे सेंसर की मदद से होता है और एक पूरा इंटरनेट ऑफ थिंग्स का वातावरण बनता है ।

IoT का मतलब | IoT meaning in Hindi

IoT का फुल फॉर्म ‘ इंटरनेट ऑफ थिंग्स ‘ (Internet of Things) होता है । अपने नाम के अनुसार यह इंटरनेट ऑफ थिंग्स यानी ‘ चीजो का अंतर्जाल ‘ है ।

पहले केवल कंप्यूटर, लैपटॉप, उससे संबंधित उपकरण और मोबाइल फोन ही इंटरनेट से जुड़े होते थे, लेकिन Internet of Things के साथ बहुत सी चीजे इंटरनेट से जुड़ रहे है । इंटरनेट ऑफ थिंग्स एक ऐसा प्लेटफॉर्म है जिसमे हमारी रोजमर्रा की जिंदगी में काम आने वाली चीजे जैसे मोबाइल फोन, इलेक्ट्रॉनिक उपकरण, कार आदि कनेक्ट हो सकते है । इस तरह बहुत से उपकरण, सेंसर, कार, मशीन, हर दिन काम आने वाली चीजे इंटरनेट कनेक्टिविटी और डेटा के साथ मिलकर हमारे काम करने या जीने के तरीके को बदल सकती है ।

इंटरनेट ऑफ थिंग्स टेक्नोलॉजी वाले उपकरणों का आईपी एड्रेस होता है । Internet of Things डिवाइस में बहुत से स्मार्ट फीचर्स होते है । IoT के द्वारा Light और AC कनेक्ट करने पर आप स्मार्टफोन से इसे कंट्रोल कर सकते है । इंटरनेट ऑफ थिंग्स प्लेटफॉर्म में अपने फीचर्स के लिए ये डिवाइस एक दूसरे पर परस्पर निर्भर होते है ।

IoT में बहुत से अलग अलग प्रकार के Smart Device आते है, जिसमे प्रतिदिन उपयोग में आने वाले डिवाइस, सुरक्षा के डिवाइस, मनोरंजन, मैकनिकल, ऑटोमोबाइल आदि श्रेणी के डिवाइस शामिल है ।

IoT इंटरनेट ऑफ थिंग्स के फायदे | IoT benefits in Hindi

Internet of things benefits in hindi

हमारी रोजमर्रा की जिंदगी में और व्यवसाय के क्षेत्र में इंटरनेट ऑफ थिंग्स के फायदे है, जिनमे से कुछ इस प्रकार है ।

आप अपने स्थान से बहुत दूर होने पर भी आसानी से किसी भी जगह से डेटा और जानकारी पा सकते है । यह उस डिवाइस के नेटवर्क से कनेक्ट होने के कारण संभव हो पाता है ।

डिवाइस से कनेक्ट नेटवर्क के द्वारा बेहतर संचार संभव होता है, इन डिवाइस के बीच संचार पारदर्शी होता है, जो गलती की संभावना को कम करता है ।

ऐसी जगह जहाँ मशीनों के द्वारा कार्य होते है वहाँ Iot के जरिए मशीन के दूसरे से संचार करती है, जिसके परिणामस्वरूप ज्यादा सुविधाजनक तरीके से और तेजी के साथ उत्पादन होता है । बिजनेस या उद्योगों में इंटरनेट ऑफ थिंग्स बहुत फायदेमंद है ।

यह नई टेक्नोलॉजी Automation यानी स्वचालन को आसान बना रही है । Internet of Things की मदद से बिना किसी बाहरी सहायता के अपने आप और तेजी से कार्य हो सकते है ।

इंटरनेट ऑफ थिंग्स के नुकसान या खतरे

वैसे तो IoT के कई फायदे निकलकर सामने आ रहे है, लेकिन विशेषज्ञों के अनुसार हर नई टेक्नोलॉजी की तरह इसके भी कुछ विपरीत प्रभाव या खतरे हो सकते है ।

इंटरनेट से कनेक्ट हर चीज के हैक होने का खतरा होता है और इंटरनेट ऑफ थिंग्स के उपकरण भी इससे अलग नही है । वैसे सुरक्षा तो जरूर रहेगी लेकिन यह संभावना हमेशा बनी रहती है की हैकर IoT सिस्टम में घुसकर डेटा को निशाना बना सकते है ।नेटवर्क के जरिए जाने वाले गोपनीय डेटा के लीक होने का बड़ा खतरा बना रहता है ।

विशेषज्ञों के अनुसार हर वस्तु यदि इंटरनेट से कनेक्ट हो जाए तो निगरानी का खतरा भी हो सकता है । IoT के विकास के साथ प्राइवेसी एक बड़ा सवाल बनकर सामने आ सकती है ।

एक जटिल और मिश्रित नेटवर्क होने के कारण हमेशा खराबी की संभावना बनी रहती है । एक Loophole भी पूरे सिस्टम के रुकने का कारण बन सकता है, जिससे सभी प्रभावित हो सकते है ।

आने वाले समय में IoT और Automation के कारण हम छोटे कार्यों के लिए भी टेक्नोलॉजी पर कुछ ज्यादा ही निर्भर बन सकते है, जो आलस और अन्य शारिरिक समस्याओं का कारण बनता है ।

उम्मीद है कि आपको Internet of Things के बारे में यह जानकारी पसंद आई होगी ।

You may also like...