पैसिव इनकम क्या होती है ? – Passive Income Meaning in Hindi

Passive income को लेकर आजकल बहुत से लोगों में रुचि देखने को मिल रही है । आज हम जानेंगे कि Passive Income और Active Income का मतलब क्या होता है, इनमे क्या अंतर है और आप पैसिव इनकम कैसे कमा सकते है ।

किसी व्यक्ति या व्यवसाय को अपनी सुविधाएं या वस्तुओं के बदले में पैसे प्राप्त होते है, जिसे Income यानी आय या आमदनी कहा जाता है । आमतौर पर किसी व्यक्ति के पास Income या आय अपनी नौकरी से प्राप्त वेतन या Salery से आती है, इसके अलावा कई लोगों को अपने व्यवसाय से आय प्राप्त होती है ।

लेकिन सोचिये अगर आपको बिना किसी सक्रिय परिश्रम के रेगुलर इनकम मिलते रहे तो कैसा होगा । पैसिव इनकम भी कुछ इसी प्रकार से होती है । आगे दी गई जानकारी को पढ़ने पर आपको Passive income के बारे में बहुत कुछ जानने को मिलेगा । तो आइए शुरुआत से जानते है कि Passive Income क्या है और पैसिव इनकम कैसे कमा सकते है ।

Passive income kya hai meaning

पैसिव इनकम क्या है ? Passive Income in Hindi

Passive Income को हिन्दी में निष्क्रिय आय कहा जाता है, जिसका मतलब वह नियमित रुप से मिलने वाली इनकम होती है , जिसे प्राप्त करने के लिए किसी व्यक्ति को सक्रिय रूप से कार्य मे शामिल नही होना पड़ता है, या बहुत कम या कोई प्रयास नही करना पड़ता है।

दूसरे शब्दों मे कहे तो पैसिव इन्कम आपको नियमित रूप से मिलने वाली इनकम है, चाहे आप इसे कमाने के लिए कोई भी मेहनत ना कर रहे हो ।

यह भी जानिए 

» इंफ्लुएंसर क्या होते है ? – Influencer in Hindi

सक्रिय और निष्क्रिय आय के बीच अंतर – Difference between Active and Passive Income

Active Income यानी सक्रिय आय और Passive Income यानी निष्क्रिय आय के बीच काफी अंतर होता है । Passive Income और Active Income की कार्यशैली एक दूसरे से अलग होती है ।

सक्रिय आय प्राप्त करने के लिए आपको सक्रिय रूप से कार्य /मेहनत/ जॉब करना होता है । इसमे जब तक आप कोई काम करते है तब तक आपको धनराशि मिलते रहती है, और जब आप काम करना बंद कर देते है तो पैसा मिलना बंद हो जाता है ।

वही निष्क्रिय आय या Passive income वह अवधारणा है जिसमें आप काम नही भी करे तो भी नियमित रूप से पैसा मिलते रहता है । इसमे आपको सक्रिय रूप से काम करने की जरूरत नही पड़ती है ।

Passive income कैसे कमाई जा सकती है ?

पैसिव इनकम कमाने के लिए एक जरिया या साधन चाहिए होता है । यानी यह कोई ऐसा साधन हो सकता है , जिससे आपको तब भी इनकम मिलती रहे जब आप कही बाहर घूम रहे हो, या आराम कर रहे हो ।

जैसे कुछ पैसिव इनकम किराये पर दी गयी संपत्ति, पार्टनरशिप से आय, ब्याज (Interest), Stocks की कीमत में बढ़ोतरी या अन्य वित्तीय लाभ वाले साधनों से प्राप्त हो सकती है, जिनमे आप सक्रिय रूप से शामिल नही होते है ।

लेकिन इनके अलावा भी लोगो के अपने ऐसे Business या साधन है जो पैसिव इनकम दे रहे है । इस प्रकार के नियमित इनकम के साधन बनाने के लिए आपको शुरुआत में काफी मेहनत करना पड़ सकता है, साथ ही एक शुरुआती निवेश और व्यवसाय के बारे मे अच्छी तरह Research करने की भी जरूरत होती है ।

Share