नेट वर्थ का मतलब क्या है ? – Net Worth Meaning in Hindi

नेट वर्थ का मतलब या हिन्दी Meaning क्या होता है, यह सवाल बहुत से लोगों के दिमाग मे आता है । Net Worth शब्द हमे बहुत सी जगहों पर सुनने को मिलता है । न्यूज या अखबार में किसी व्यक्ति या कंपनियों के Net Worth के बारे में खबरे आती रहती है, जिसमे किसी व्यक्ति का नेट वर्थ या किसी कंपनी / ग्रुप के Net Worth के बारे में बात की जाती है ।

तो आइए जानते है की Net Worth का मतलब क्या होता है और इसका आंकलन कैसे किया जाता है –

Net Worth Meaning in Hindi

नेट वर्थ क्या है ? Net Worth Meaning in Hindi

Net Worth का हिन्दी में अर्थ शुद्ध संपत्ति होता है । यह एक गणना होती है जिसमे किसी इकाई की कुल सम्पत्ति (Asset) में से उसकी कुल देनदारी (Liability) को घटाया जाता है, इसके बाद निकलने वाली सम्पत्ति का मूल्य Net Worth कहलाता है।

दूसरे शब्दों में कहे तो Net Worth आपके स्वामित्व की सभी संपत्ति के मूल्य को जोड़कर उसमें से सभी देनदारी यानी खर्च को घटाकर निकलने वाली राशि है ।

net worth means in hindi

  • संपत्ति (Assets) का अर्थ ऐसी चीजें जो आपके स्वामित्व में आती है या जिनके आप मालिक है, वह Assets यानी संपत्ति होती है । जैसे घर, गाड़ी, गहने, घर के सामान, बैंक बैलेंस आदि ।
  • देनदारी (Liability) का अर्थ आपके द्वारा जाने वाली राशि जैसे बिल,EMI, Loans आदि शामिल होते है ।

नेट वर्थ के आंकलन का मतलब Estimated Net Worth Meaning in Hindi

किसी कंपनी, आर्थिक संस्था या व्यक्ति के नेट वर्थ का आंकलन करने के लिए आमतौर पर इस सूत्र का उपयोग किया जाता है  –

कुल सम्पत्ति (Assets)  – कुल देनदारी  (Liability)  = नेट वर्थ  (Net Worth) 

इससे किसी कंपनी, व्यक्ति या आर्थिक संस्था का नेट वर्थ निकाला जा सकता है । किसी कंपनी के नेट वर्थ से उस कंपनी या इकाई के आर्थिक हालात के बारे में पता लगता है ।

उच्च नेट वर्थ किसी व्यक्ति या कंपनी के एक अच्छी आर्थिक मजबूती और Credit Score के बारे में बताता है। इसी प्रकार कम या नकारात्मक नेट वर्थ कमजोर आर्थिक हालात और कम क्रेडिट स्कोर के बारे में बताता है ।

निवेशक नेट वर्थ के द्वारा भी कंपनियों का मूल्यांकन करते है, इससे उन्हें कंपनी को समझने और संभावित अवसरों की पहचान करने में मदत मिलती है ।

आप समय समय पर अपने वित्तीय हालात पता करने के लिए Net Worth की गणना कर सकते है, जिससे आप सही आर्थिक फैसले ले सके । आपका Personal Net Worth भी आपकी वर्तमान आर्थिक हालत और साल दर साल आर्थिक तरक्की को मापने का एक अच्छा साधन है ।

आप अपना Net Worth निकालकर अपनी संपत्ति, देनदारी और वित्तीय निर्णयों का विश्लेषण कर सकते है और इस आधार पर अपने वित्तीय लक्ष्यों या Financial Goals को पूरा करने के लिए नीति बना सकते है ।

Net Worth को बढ़ाने का सबसे अच्छा तरीका यह होता है कि या तो Liabilities यानी देनदारी को कम किया जाए और Assets को स्थिर रखा या बढ़ाया जाए ।

यह भी जानिए

» Passive Income क्या होती है ?

» Digital Savings Account क्या होता है ? कैसे बनाये ?

निजी नेट वर्थ क्या होता है ? Personal Net Worth Meaning in Hindi

Personal Net worth meaning in hindi

किसी व्यक्ति के निजी नेट वर्थ निकालने की बात करे तो यहाँ पर भी उसकी कुल संपत्ति में मकान, अन्य रियल इस्टेट, वाहन / कार ,ज्वैलरी, सेविंग, कैश, म्यूच्यूअल फंड्स व अन्य संपत्ति हो सकती है और खर्चो में किसी भी प्रकार का ऋण (Loan), Credit Card Bill, नियमित खर्च आदि शामिल होते है, जिन्हें घटाकर उसकी Net Worth पता चलती है ।

अपना निजी नेट वर्थ कैसे निकाल सकते है ? 

अगर आप भी अपना निजी नेट वर्थ (Personal Net worth) निकालना चाहते है तो इन आसान स्टेप्स का पालन करें ।

अपनी सभी संपत्तियों की लिस्ट बनाये 

आपकी सभी संपत्तियों की लिस्ट बनाये और उनकी वर्तमान मार्केट वैल्यू पता करें , जैसे –

  • आपके घर, रियल एस्टेट का मूल्य
  • आपके सभी निवेशों का वर्तमान मूल्य
  • बैंक में जमा पैसे
  • गहने
  • आपकी कार
  • बिजनेस मूल्य
  • अन्य संपत्ति

सभी देनदारी, जिम्मेदारियों की लिस्ट बनाये

अपने सभी प्रकार के नियमित देनदारी की लिस्ट बनाइये, जैसे

  • Personal Loan
  • क्रेडिट कार्ड बिल
  • EMI
  • Home Loan, Car Loan
  • अन्य सभी देनदारी

अब कुल संपत्ति में से कुल देनदारी घटाए 

अपनी सभी संपत्ति के मार्केट मूल्य की गणना और देनदारी की गणना कर लेने के बाद, कुल संपत्ति में से कुल देनदारी घटा दीजिये, इसके बाद जो राशि बचती है वह आपका Net Worth निकलता है ।

Business में Net Worth

किसी कंपनी या Business में नेट वर्थ उसके Total Assets और Total Liabilities के बीच का अंतर होता है । बिजनेस में Net Worth को Shareholders Equity या Book Value भी कहा जाता है । यह कंपनी द्वारा अपनी सभी Liabilities चुकाने के बाद Assets की Value होती है ।

Net Worth कंपनी की Market Value से अलग होता है । जब कंपनी की Liabilities के मुकाबले Assets और Earnings बढ़ रही होती है, तो Net Worth बढ़ रहा होता है ।

किसी कंपनी के Net Worth Statement या Balance Sheet को किसी विशेष समय के अंदर कंपनी की वित्तीय अवस्था को दर्शाने के लिए बनाया जाता है । इसका उपयोग Investors या Shareholders द्वारा कंपनी की वित्तीय मजबूती का आंकलन करने के लिए किया जाता है ।

उम्मीद है कि आपको Net Worth और इसके हिन्दी Meaning को लेकर यह जानकारी अच्छी लगी होगी । आप भी अपना पर्सनल नेट वर्थ पता कर अपने आर्थिक लक्ष्यों की योजना बना सकते है ।

Share